21 फ़रवरी 2018

"नए इन्वेंशन के लिए महत्वपूर्ण सबक "

"नए इन्वेंशन के लिए महत्वपूर्ण सबक "
 सच्ची रचनात्मकता का  मतलब है,  दिमाग  का खुलापन और  हमारी अनुकूलन   की योग्यता।   जब हम कुछ देखते हैं या अनुभव करते हैं तो हमें इसे कई कोणों से देखने के लिए, स्पष्ट संभावनाओं से परे अन्य संभावनाओं को देखने के लिए ,सक्षम होना चाहिए।हम सकते  हैं कि हमारे आस-पास के ऑब्जेक्ट का इस्तेमाल उसके और भी  अन्य  प्रयोजनों के लिए  हो सकता है।


   हमारे दिमाग के नए  विचार को  हमारे मूर्खतापूर्ण जड़ता के कारण पढ़ नहीं पाते , क्यूंकि हम अपने आप को  हमेशा सही साबित करने कोशिश में ही लगे रहते है।   बजाय इसके हमको  उस क्षण में रहना है जो ,  शुध्द  वर्त्तमान में है , और वह  हमें  उस विषय के अन्वेषण में आगे ले जाता है , उसकी विभिन्न शाखाओं और आकस्मिकताओं , विपरीतताओं की समझ के प्रति ।  इस तरीके से हम अपने पंखों को वायुयान में बदल सकते है।  

मस्तिष्क की शुरुवाती रचनाशक्ति में  फर्क नहीं पड़ता  है बल्कि इससे फर्क पड़ता है  की हम दुनिया को कैसे देखते हैं।   सोच की लालित्य,लोचपूर्णता  अनुकूलनता से हमारी दृष्टि कितनी नई और अलग हो सकती है । 

रचनात्मकता और अनुकूलन क्षमता एक दूसरे से अलग नहीं  हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें