22 फ़रवरी 2018

1895 में ऑस्कर वाइल्ड ने समाज के नैतिक नियमों का उल्लंघन कर दिया

ऑस्कर वाइल्ड उस शख्स का नाम है, जिसने सारी दुनिया में अपने लेखन से हलचल मचा दी थी। शेक्सपीयर के उपरांत सर्वाधिक चर्चित ऑस्कर वाइल्ड सिर्फ उपन्यासकार, कवि और नाटककार ही नहीं थे, अपितु वे एक संवेदनशील मानव थे। उनके लेखन में जीवन की गहरी अनुभूतियाँ हैं, रिश्तों के रहस्य हैं, पवित्र सौन्दर्य की व्याख्या है, मानवीय धड़कनों की कहानी है।
उनके जीवन का मूल्यांकन एक व्यापक फैलाव से गुजरकर ही किया जा सकता है। अपने धूपछाँही जीवन में उथल-पुथल और संघर्ष को समेटे 'ऑस्कर फिंगाल ओं फ्लाहर्टी विल्स वाइल्ड' मात्र 46 वर्ष पूरे कर अनंत आकाश में विलीन हो गए।
ऑस्कर वाइल्ड 'कीरो' के समकालीन थे। एक बार भविष्यवक्ता कीरो किसी संभ्रांत महिला के यहांं भोज पर आमंत्रित थे। काफी संख्या में यहाँ प्रतिष्ठित लोग मौजूद थे। कीरो उपस्थित हों और भविष्य न पूछा जाए, भला यह कैसे संभव होता। एक दिलचस्प अंदाज में भविष्य दर्शन का कार्यक्रम आरंभ हुआ। एक लाल मखमली पर्दा लगाया गया। उसके पीछे से कई हाथ पेश किए गए। यह सब इसलिए ताकि कीरो को पता न चल सके कि कौन सा हाथ किसका है? दो सुस्पष्ट, सुंदर हाथ उनके सामने आए। उन हाथों को कीरो देखकर हैरान रह गए। दोनों में बड़ा अंतर था। जहाँ बाएँ हाथ की रेखाएँ कह रही थीं कि व्यक्ति असाधारण बुद्धि और अपार ख्याति का मालिक है। वहीं दायाँ हाथ..? कीरो ने कहा 'दायाँ हाथ ऐसे शख्स का है जो अपने को स्वयं देश निकाला देगा और किसी अनजान जगह एकाकी और मित्रविहीन मरेगा। कीरो ने यह भी कहा कि 41 से 42वें वर्ष के बीच यह निष्कासन होगा और उसके कुछ वर्षों बाद मृत्यु हो जाएगी। यह दोनों हाथ लंदन के सर्वाधिक चर्चित व्यक्ति ऑस्कर वाइल्ड के थे। संयोग की बात कि उसी रात एक महान नाटक 'ए वुमन ऑफ नो इम्पोर्टेंस' मंचित किया गया। उसके रचयिता भी और कोई नहीं ऑस्कर वाइल्ड ही थे।
बहरहाल, 15 अक्टूबर 1854 को ऑस्कर वाइल्ड जन्मे थे। कीरो की भविष्यवाणी पर दृष्टिपात करें तो 1895 में ऑस्कर वाइल्ड ने समाज के नैतिक नियमों का उल्लंघन कर दिया। फलस्वरूप समाज में उनकी अब तक अर्जित प्रतिष्ठा, मान-सम्मान और सारी उपलब्धियाँ ध्वस्त हो गईं। यहाँ तक कि उन्हें दो वर्ष का कठोर कारावास भी भुगतना पड़ा। जब ऑस्कर वाइल्ड ने अपने सौभाग्य के चमकते सितारे को डूबते हुए और अपनी कीर्ति पताका को झुकते हुए देखा तो उनके धैर्य ने जवाब दे दिया।
अब वे अपने उसी गौरव और प्रभुता के साथ समाज के बीच खड़े नहीं हो सकते थे। हताशा की हालत में उन्होंने स्वयं को देश निकाला दे दिया। वे पेरिस चले गए और अकेले गुमनामी की जिंदगी गुजारने लगे। कुछ वर्षों बाद 30 नवम्बर 1900 को पेरिस में ही उनकी मृत्यु हो गई। उस समय उनके पास कोई मित्र नहीं था। यदि कुछ था तो सिर्फ सघन अकेलापन और पिछले सम्मानित जीवन की स्मृतियों के बचे टुकड़े।
ऑस्कर वाइल्ड का पूरा नाम बहुत लंबा था, लेकिन वे सारी दुनिया में केवल ऑस्कर वाइल्ड के नाम से ही जाने गए। उनके पिता सर्जन थे और माँ कवयित्री। कविता के संस्कार उन्हें अपनी माँ से ही मिले। क्लासिक्स और कविता में उनकी विशेष गति थी।
19वीं शताब्दी के अंतिम दशक में उन्होंने सौंदर्यवादी आंदोलन का नेतृत्व किया। इससे उनकी कीर्ति चारों ओर फैली। ऑस्कर वाइल्ड विलक्षण बुद्धि, विराट कल्पनाशीलता और प्रखर विचारों के स्वामी थे। परस्पर बातचीत से लेकर उद्भट वक्ता के रूप में भी उनका कोई जवाब नहीं था। उन्होंने कविता, उपन्यास और नाटक लिखे। अँग्रेजी साहित्य में शेक्सपीयर के बाद उन्हीं का नाम प्राथमिकता से लिया जाता है। 'द पिक्चर ऑफ डोरियन ग्रे' उनका प्रथम और अंतिम उपन्यास था, जो 1890 में पहली बार प्रकाशित हुआ।
विश्व की कई भाषाओं में उनकी कृतियाँ अनुवादित हो चुकी हैं। 'द बैलेड ऑफ रीडिंग गोल' और 'डी प्रोफनडिस', उनकी सुप्रसिद्ध कृतियाँ हैं। लेडी विंडरम'र्स फेन और द इम्पोर्टेंस ऑफ बीइंग अर्नेस्ट जैसे नाटकों ने भी खासी लोकप्रियता अर्जित की। उनकी लिखी परिकथाएँ भी विशेष रूप से पसंद की गईं। उनके एक नाटक 'सलोमी' को प्रदर्शन के लिए इंग्लैंड में लाइसेंस नहीं मिला। बाद में उसे सारा बरनार्ड ने पेरिस में प्रदर्शित किया।
ऑस्कर वाइल्ड ने जीवन मूल्यों, पुस्तकों, कला इत्यादि के विषय में अनेक सारगर्भित रोचक टिप्पणियाँ की हैं। उन्होंने कहा- 'पुस्तकें नैतिक या अनैतिक नहीं होतीं। वे या तो अच्छी लिखी गई होती हैं या बुरी।' अपने अनंत अनुभवों के आधार पर एक जगह उन्होंने लिखा- 'विपदाएँ झेली जा सकती हैं, क्योंकि वे बाहर से आती हैं, किंतु अपनी गलतियों का दंड भोगना हाय, वही तो है जीवन का दंश। कला के विषय में उनके विचार थे- 'कला, जीवन को नहीं, बल्कि देखने वाले को व्यक्त करती है अर्थात तब किसी कलात्मक कृति पर लोग विभिन्ना मत प्रकट करते हैं तब ही कृति की पहचान निर्धारित होती है कि वास्तव में वह कैसी है, आकर्षक या उलझी हुई।'
ऑस्कर वाइल्ड ने अपने साहित्य में कहीं न कहीं अपनी पीड़ा, अवसाद और अपमान को ही अभिव्यक्त किया है। बावजूद इसके उनकी रचनाएँ एक विशेष प्रकार का कोमलपन लिए एक विशेष दिशा में चलती हैं। कई बड़े साहित्यकारों की तरह उन्होंने भी विषपान किया, नीलकंठ बने और खामोश रहे। विश्व साहित्य का यह तेजस्वी हस्ताक्षर आज भी पूरी दुनिया में स्नेह के साथ पढ़ा और सराहा जाता है।



Wilde v. Queensberry An account of court case of Oscar Wilde on WikiPedia

On 18 February 1895, the Marquess left his calling card at Wilde's club, the Albemarle, inscribed: "For Oscar Wilde, posing somdomite" [sic].[122][Notes 5] Wilde, encouraged by Douglas and against the advice of his friends, initiated a private prosecution against Queensberry for libel, since the note amounted to a public accusation that Wilde had committed the crime of sodomy.

Queensberry was arrested on a charge of criminal libel, a charge carrying a possible sentence of up to two years in prison. Under the 1843 Libel Act, Queensberry could avoid conviction for libel only by demonstrating that his accusation was in fact true, and furthermore that there was some "public benefit" to having made the accusation openly. Queensberry's lawyers thus hired private detectives to find evidence of Wilde's homosexual liaisons. They decided on a strategy of portraying Wilde as a depraved older man who habitually enticed naïve youths into a life of vicious homosexuality to demonstrate that there was some public interest in having made the accusation openly.

Wilde's friends had advised him against the prosecution at a Saturday Review meeting at the Café Royal on 24 March 1895; Frank Harris warned him that "they are going to prove sodomy against you" and advised him to flee to France.[123] Wilde and Douglas walked out in a huff, Wilde saying "it is at such moments as these that one sees who are one's true friends". The scene was witnessed by George Bernard Shaw who recalled it to Arthur Ransome a day or so before Ransome's trial for libelling Douglas in 1913. To Ransome it confirmed what he had said in his 1912 book on Wilde; that Douglas's rivalry for Wilde with Robbie Ross and his arguments with his father had resulted in Wilde's public disaster; as Wilde wrote in De Profundis. Douglas lost his case. Shaw included an account of the argument between Harris, Douglas and Wilde in the preface to his play The Dark Lady of the Sonnets.[124][125]

The libel trial became a cause célèbre as salacious details of Wilde's private life with Taylor and Douglas began to appear in the press. A team of private detectives had directed Queensberry's lawyers, led by Edward Carson QC, to the world of the Victorian underground. Wilde's association with blackmailers and male prostitutes, cross-dressers and homosexual brothels was recorded, and various persons involved were interviewed, some being coerced to appear as witnesses since they too were accomplices to the crimes of which Wilde was accused.[126]

A semi-detached red-brick Georgian house, with a small blue plague on the wall.
No. 34 Tite Street, Chelsea, the Wilde family home from 1884 to his arrest in 1895. In Wilde's time this was No. 16 – the houses have been renumbered.[127]
The trial opened on 3 April 1895 amid scenes of near hysteria both in the press and the public galleries. The extent of the evidence massed against Wilde forced him to declare meekly, "I am the prosecutor in this case".[128] Wilde's lawyer, Sir Edward George Clarke, opened the case by pre-emptively asking Wilde about two suggestive letters Wilde had written to Douglas, which the defence had in its possession. He characterised the first as a "prose sonnet" and admitted that the "poetical language" might seem strange to the court but claimed its intent was innocent. Wilde stated that the letters had been obtained by blackmailers who had attempted to extort money from him, but he had refused, suggesting they should take the £60 (equal to £6,400 today) offered, "unusual for a prose piece of that length". He claimed to regard the letters as works of art rather than something of which to be ashamed.[129]

Carson, a fellow Dubliner who had attended Trinity College, Dublin at the same time as Wilde, cross-examined Wilde on how he perceived the moral content of his works. Wilde replied with characteristic wit and flippancy, claiming that works of art are not capable of being moral or immoral but only well or poorly made, and that only "brutes and illiterates," whose views on art "are incalculably stupid", would make such judgements about art. Carson, a leading barrister, diverged from the normal practice of asking closed questions. Carson pressed Wilde on each topic from every angle, squeezing out nuances of meaning from Wilde's answers, removing them from their aesthetic context and portraying Wilde as evasive and decadent. While Wilde won the most laughs from the court, Carson scored the most legal points.[130] To undermine Wilde's credibility, and to justify Queensberry's description of Wilde as a "posing...somdomite", Carson drew from the witness an admission of his capacity for "posing", by demonstrating that he had lied about his age on oath. Playing on this, he returned to the topic throughout his cross-examination.[131] Carson also tried to justify Queensberry’s characterization by quoting from Wilde’s novel, The Picture of Dorian Gray, referring in particular to a scene in the second cha

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें