24 अप्रैल 2017

"टोनी के मस्तिष्क में एक्सीडेंट के बाद ऐसा क्या हुआ जिसने उसको संगीत के लिए दीवानापन पैदा करके संगीतकार बना दिया "



"टोनी के मस्तिष्क में  एक्सीडेंट के बाद ऐसा क्या हुआ जिसने उसको संगीत के लिए दीवानापन पैदा करके संगीतकार बना दिया "


1952  में जन्मे  डॉ टोनी सीकोरिआ , नॉर्विच न्यूयार्क के चेनंगो मेमोरियल हॉस्पिटल के ऑर्थोपेडिक सर्जन थे।  उनका संगीत से कोई खास लगाव नहीं था सिवाय कभी कभार रॉक-एन -रोल सुन लेने के।


1994 में अल्बेनी न्यू यॉर्क में एक पब्लिक टेलीफोन में फ़ोन करने के बाद वो जैसे ही बाहर आये उनके ऊपर बिजली गिर गयी।  उनका हार्ट काम करना बंद कर दिया। सौभाग्य से एक और महिला जो उसी समय फ़ोन करने के लिए इंतज़ार कर रही थी वह आई सी यु की ट्रेंड नर्स थी। उसने तत्काल टोनी को प्राथमिक उपचार दिया और उसके हार्ट को पंप करके पुनः जीवित किया।  टोनी ने अपने अनुभव में बताया की उसको महसूस हुआ की उसका शरीर जमीन पर रखा हुआ है और उसके चारों तरफ नीली सफ़ेद रौशनी  से ढका हुआ है। बिजली गिरने से उसके पावों और चेहरे पर इलेक्ट्रिकल बर्न हो गया था।
इस एक्सीडेंट के  कुछ हफ्ते बाद टोनी ने  याददाश्त में कमी और थकान की शिकायत   को लेकर न्यूरोलॉजिस्ट से सलाह ली।  एम् आर आई और सी टी स्कैन इ इ जी नार्मल आया। तीन हफ्ते में टोनी की एनर्जी वापस आ गयी और उसके दो हफ्ते बाद याददाश्त वाली समस्या भी सुधर गयी।  टोनी ने वापस हॉस्पिटल ज्वाइन कर लिया।

उसके बाद कुछ दिन ही बीते होंगे की टोनी को पियानो सुनने की तीव्र इच्छा हुई। उसने पिआनो खरीद कर सीखना भी शुरू कर दिया।  अचानक ने उसका मस्तिष्क  संगीत  के विचारों से पूरी तरह से आच्छादित हो गया। टोनी के पूरे 42 वर्ष में कभी भी संगीत का जुड़ाव नहीं था जबकि बिजली गिरने  के तीन माह में उसने अपना पूरा समय संगीत सीखने और संगीत की धुने रचने में ही लगाया।

कुछ सालों ने टोनी ने संगीत के प्रदर्शन में भी हिस्सा लिया।





न्यूरोलॉजिस्ट डॉ ओलिवर सैक ने अपनी किताब में इस केस का उल्लेख किया है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें