11 जून 2010

आध्यात्मिक होने के बावजूद इन्हें काफ़िर की ही संज्ञा मिली

हम फ़क़ीरों से बे-अदाई क्या
आन बैठे जो तुमने प्यार किया
सख़त काफ़िर था जिसने पहले "मीर"
मज़हब-ए-इश्क़ इख़्तियार किया .

सूफियों ने प्रेम को अध्यात्म की पहली और आखरी शर्त माना है.उनकी कविता की खासियत है की आधात्मिक ही नहीं  भौतिक ,शारीरिक प्रेमी भी इसका मज़ा ले सकते है .तो चाहे किसी भी स्तर पर  भी रहिये आनंद आयेगा .  

सबसे अनोखी बात यह है की आध्यात्मिक होने के बावजूद इन्हें काफ़िर की ही संज्ञा मिली है .हाल मिल गया है अपने हाल से .






अमृत बूंदे रसधार की :
"तुम लोगों को मै फिर बता देता हूँ की मन्त्र जाप को कभी मत छोड़ना.मन्त्र जाप से आपको अत्यधिक सहारा मिलता है .कितनी ही अनजाने संकट से आपको यह निकल देता है .मन्त्र जाप आपको आजीवन भौतिक स्तर पर लाभ देगा .इसको अगर आप छोड़ दिये तो आप नुकसान में रहोगे .इसको अपनी दिनचर्या बना लो ." गुरुदेव ने पिंकू से कहा  .पिंकू गुरुदेव कि मालिश कर रहा था .
"मै तो मन्त्र जाप करता हूँ पर मन्त्र को ग्यारह बार ही करता हूँ इक सौ आठ बार नहीं ." पिंकू बोला .
"मन्त्र जाप का लाभ लेना है तो मन्त्र को इक सौ आठ बार जाप करना ही पड़ेगा .ग्यारह ,नौ ,तीन बार तो मै शुरुवात के लिए बोलता हूँ ,इससे मन्त्र याद हो जाता है .मन्त्र उच्चारण के लिए जबान खुल जाती है .अगर छः माह हो गए है और ग्यारह ग्यारह ही करते हो तो नहीं करना अच्छा .इससे आपको कोई लाभ नहीं होगा .ग्यारह बार करना पूजा करना मात्र होता है "
"तुमको मै जीवन कि लगभग सभी समस्या के लिए मन्त्र दे चूका हूँ .तुम इन मन्त्र को जरुरतमंदों को दे कर उनका कल्याण कर सकते हो .भैरवी ने बताया है कि इन मन्त्रों पर उनके पीठ में सौ साल पहले ही रीसर्च हो चूका है .इनका असर स्थापित हो चूका है .जाँच परख कर ही पीठ के गुरुओं ने इसे जनसामान्य के कल्याण  लिए निकला है ."
मै अपने मन में सोच रहा था कि गुरुओं की करुणा बहुत है और में सौभाग्य है की गुरु के शरण में आज हूँ .
(जय गुरु महाराज की जय .जय भैरवी माता की जय )

ज्योतिष की अद्भुत दुनिया :


अगर कन्या का विवाह नहीं हो रहा है,या मंगली दोष के कारण विवाह बाधा,विवाह टूटना ,नहीं होना ,विवाद इत्यादि हो रहा है तो तो निम्लिखित विशेष टोटके रूपी प्रयास करें (.पीठ के सिद्दों ने यह उपाय बताया है) :
1 मूंगा नहीं पहनना चाहिए चाहे कुंडली में कितना भी कारक हो.
2 लाल कपडा ,लाल वस्त्र नहीं पहनना चाहिए
3 स्त्रियों को सवा चार रत्ती का पीला पुखराज तर्जनी ने और पुरुषों को सफ़ेद ओपेल दस रत्ती का तर्जनी में धारण करना चाहिए .
4 इक संतरा सुबह छह से नौ बजे के बीच नदी में बहाना चाहिए .



दवाखाना :
मेरे नौ जून के पोस्ट में डिप्रेशन के बारे में लिखा था तो मेरे इक पाठक मित्र को ठीक वैसा ही इक मरीज टकरा गया .मरीज अपने बैचनी ,सिरदर्द ,नींद नहीं आने ,और कई प्रकार के शारीरिक लक्षण के लिए कई जगह इलाज करा चूका था .अंत में शहर के बहुत बड़े डाक्टर ने मर्ज पकड़ लिया .
मरीज ने डाक्टर साहब से पूछा "सर मुझको क्या बीमारी है ?"
"असल में तुमको शाक लगा है " डाक्टर साहब  ने जवाब दिया.(ये अब उस शाक से उबरे की इस शाक से ) 

फ़िल्मी दुनिया :
इक बहुत बड़े शो में फिल्म स्टार  चयन के फ़ाइनल राउण्ड के अंत में जज ने समझाते हुए कहा "  स्टार  बनने के लिए  सबसे बड़ी क्वालिटी यह है की उसकी किस्मत बुलंद होनी चाहिए .किस्मत ही वो खूबी  है जो आपको   स्टार बना सकती है ."
इक लड़की उठकर ने पूछा "सर और हेरोईन बन्ने के लिए ?"
"तुम बाद में मिलना. मै बता दूंगा " जज ने कहा .

2 टिप्‍पणियां:

  1. Bahut badhiy, kabhi mauka lage idhar bhi dekhiyega :
    www.taarkeshwargiri.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. हम फ़क़ीरों से बे-अदाई क्या
    आन बैठे जो तुमने प्यार किया
    सख़त काफ़िर था जिसने पहले "मीर"
    मज़हब-ए-इश्क़ इख़्तियार किया .
    ....bahut badhiya,...upar ki char line hi sabkuchh bayaan kar deti hai.

    उत्तर देंहटाएं